Hud Hud Lyrics | Dabangg 3 | Divya Kumar | Shabab Sabri

Hud Hud Lyrics from the movie Dabangg is composed by Sajid Wajid and sung by Divya Kumar, Shabab Sabri and Sajid. Jalees Sherwani has penned the lyrics for the song.

Hud Hud Lyrics | Dabangg 3 | Divya Kumar | Shabab Sabri

Song- Hud HudSingers: Divya Kumar, Shabab Sabri, Sajid
Music: Sajid Wajid
Lyricists: Jalees Sherwani
Additional Lyrics: Danish Sabri
Music Produced & Conducted By: Aditya Dev

Hud Hud Lyrics – Dabangg 3

हैया
मेरा अपना करम है
मेरे अपने गवाहे हैं

हो मेरा अपना करम है
मेरे अपने गवाहे हैं
मेरी अपनी झलक है
मेरे अपने सहारे हैं
मेरे अपने अँधेरे हैं
मेरे अपने पिटारे हैं
आजाद बाशिंदा हूँ
मैं अपने रब दा बंदा हूँ

मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग
मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग
मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग
मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग

हुड हुड दबंग दबंग
दबंग दबंग
हुड हुड दबंग दबंग
दबंग दबंग
हुड हुड दबंग दबंग
दबंग दबंग
मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग

हो यारों के लिए वो सच्चा यार है
दुश्मनों को काटे वो तलवार है
एक पल भी ना झपके पलक
जब शेर देखे शिकार को
जब रब का साया साथ हो
तो झुकता देखा संसार को

मेरी अपनी मौजें हैं
मेरे अपने धारे हैं
आजाद बाशिंदा हूँ
मैं अपने रब दा बंदा हूँ

मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग
मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग
मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग
मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग

हुड हुड दबंग दबंग
दबंग दबंग
हुड हुड दबंग दबंग
दबंग दबंग
हुड हुड दबंग दबंग
दबंग दबंग
मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग

सीने में उसके आग है
अनसुना सा कोई राग है
चारों दिशा शोर हो
जब भी मैदान में आवे
वो देख ना पावे कुछ भी
जो उसको आँख दिखावे

मेरा अपना गुलशन है
मेरी अपनी बहारें हैं
आज़ाद बाशिंदा हूँ
मैं अपने रब दा बंदा हूँ

मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग
मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग
मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग
मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग

हुड हुड दबंग दबंग
दबंग दबंग
हुड हुड दबंग दबंग
दबंग दबंग
हुड हुड दबंग दबंग
दबंग दबंग
मैं हूँ दबंग दबंग
दबंग दबंग
Haiya!

Hud Hud Lyrics – Dabangg 3

Mera apna karam hai
Mere apne gawaahe hain

Ho mera apna karam hai
Mere apne gawaahe hain
Meri apni jhalak hai
Mere apne sahare hain
Mere apne andhere hain
Mere apne pitare hain
Aazad bashinda hoon
Main apne rab da banda hoon

Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg

Hud hud dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Hud hud dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Hud hud dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg

Ho yaaron ke liye wo saccha yaar hai
Dushmanon ko kaate wo talwar hai
Ek pal bhi na jhapke palak
Jab sher dekhe shikar ko
Jab rab ka saaya sath ho
To jhukta dekha sansar ko

Meri apni maujein hain
Mere apne dhaare hain
Azad bashinda hoon
Main apne rab da banda hoon

Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg

Hud hud dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Hud hud dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Hud hud dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg

Seene mein uske aag hai
An-suna sa koi raag hai
Chaaro disha shor ho
Jab bhi maidan mein aave
Wo dekh na paave kuch bhi
Jo usko ankh dikhave

Mera apna gulshan hai
Meri apni baharein hain
Azad bashinda hoon
Main apne rab da banda hoon

Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg

Hud hud dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Hud hud dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Hud hud dabangg dabangg
Dabangg dabangg
Main hoon dabangg dabangg
Dabangg dabangg

  • Stream the song online on Gaana.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here